Vertical Farming: नई विधि से करें खेती, हर महीने करें लाखों में कमाई

Vertical Farming का चलन भारत में बढ़ने लगा है और इससे अब किसान और अन्य साधारण लोग भी कमाई करने लगे है। आप Vertical agriculture के माध्यम से लाखों रुपए महीने कमा सकते हैं जिसमें आपकी लागत भी  बचती है और जगह का भी बहुत कम इस्तेमाल होता है। आप अपने घर की बालकनी में, एक छोटे से कमरे में, मिट्टी का प्रयोग करें बिना फसल उगा सकते हैं जिसके लिए आपको केवल पानी और बीज की आवश्यकता होती है, इससे होने वाली फसल बहुत पौष्टिक और लाभदायक होती है तथा ऊंची कीमत पर बाजारों में बेची जाती है।

आर्टिकल में हम आपके साथ साझा करेंगे कि किस तरह आप भी अपने घर में तथा एक छोटे से कमरे में Vertical Hydroponic Farming की व्यवस्था कर सकते हैं,  और साथ ही किस प्रकार की सब्जी या फसल इस तकनीक के माध्यम से होगा और आपको मुनाफा होगा।

Vertical Hydroponic Farming क्या है

VERTICAL FARMING IN INDIA: दरअसल ये खेती का एक नया तरीका है जिसमें हम परंपरागत तरीके से यानी जमीन मे क्यारियां बनाकर खेती करने की जगह वर्टिकल तरीके से खेती करते हैं यानी नीचे से ऊपर की ओर फसल को बोया जाता है।

आसानी से समझने के लिए हमें खंबे का उदाहरण ले सकते हैं जिस प्रकार एक खंभा जमीन से आसमान की ओर जाता है उसी प्रकार वर्टिकल खेती (Modern Day Vertical Farming) केंद्र भी फसलें नीचे से ऊपर की ओर लगाई जाती है जिसमें बीच में एक ढांचा बना होता है जो फसल को सहारा देता है। इस विधि के अनुसार तैयार की गई खेती में वातावरण का बहुत अधिक महत्व है। जिस प्रकार किया फसल उगा रहे हैं उसके अनुकूल ही आपको वातावरण नियंत्रित करना होगा। फार्मिंग के लिए नवीनतम तकनीकों को में से एक यह भी है कि LED बल्ब के माध्यम से आप कृत्रिम वातावरण तैयार कर सकते हैं।

दूसरी तकनीक हाइड्रोपोनिक खेती है, यह खेती की एक ऐसी विधि है जिसमें मिट्टी का प्रयोग नहीं किया जाता। पानी के अंदर पौधों के लिए पोस्टिक तत्व मिलाकर पौधों को प्रदान किया जाता है। ड्रिपिंग सिस्टम के माध्यम से यह पोस्टिक पानी के तत्व पौधों और फसलों तक अपने समय के अनुसार पहुंचता रहता है और उनमें पौष्टिकता पहुंचाता रहता है जिससे उनकी वृद्धि होती है। इस तकनीक के माध्यम से फल और सब्जियां जैसे पालक, बथुआ, टमाटर, इत्यादि को उगाया जा सकता है।   इस तकनीक का प्रयोग करने से मिट्टी में पैदा होने वाले कीड़ों से भी फसल की सुरक्षा रहती है। यह पौधे अपनी जड़ों के माध्यम से पानी को खींचते हैं और इस प्रकार फसल तैयार हो जाती है ।

PM E Mudra Loan Online Apply 2022 : सरकार दे रही 5 लाख का लोन, नहीं लगेगा किसी प्रकार का ब्याज

Car Loan: कम ब्याज़ पर कार लोन – Apply Car/Auto Loan Online in India

(New) National Education Policy 2022-23: नई शिक्षा नीति – NEP 5+3+3+4 Structure PDF

(SRFP) Summer Research Fellowship Programme 2023: विद्यार्थियों को ₹12,000 मिलेंगे शिक्षकों को ₹18,750, जानें डिटेल

Vertical Farming के अंतर्गत उगने वाली फसलें

आप निम्नलिखित फसलों को इस विधि के अनुसार उगा सकते हैं और पैसा कमा सकते हैं:

  •  पालक
  •  धनिया
  • बैंगन
  •  टमाटर
  •  खीरा
  •  मिर्च आदि

Vertical Farming करने की विधियां

हाइड्रोपोनिक (Hydroponics) विधि

 इस विधि के अंदर फसल को उगाने के लिए पोक तत्त्व वाले पानी की आवश्यकता होती है जिसमें विभिन्न पोषक पदार्थ मिले होते हैं और उन्हीं से  ड्रिप तंत्र के द्वारा जड़ों के माध्यम से पौधों तक पानी पहुंचाया जाता है। इसमें पंप के माध्यम से सबसे ऊपर वाले पौधे तक पानी पहुंचाया जाता है। इसके बाद गुरुत्वाकर्षण के कारण ऊपर का पानी नीचे की ओर आता है इस प्रकार ऊपर से होते हुए यह पानी नीचे तक सभी पौधों तक पहुंच जाता है और उनको पोषक तत्व पहुंचाता है। पौधों की जड़ों द्वारा इस पानी को खींच लिया जाता है

एरोपोनिक्स (Aeroponics)

यह Vertical Farming का एक ऐसा तरीका है जिसमें सभी पौधों को एक के ऊपर एक लगाया जाता है और इसमें सिंचाई करने के लिए ड्रिप का प्रयोग ना करें पोस्टिक तत्वों से भरे जलीय मिश्रण का फव्वारे की तरह मशीन द्वारा किया जाता है। यह छिड़काव पत्तों पर ना करके जड़ों पर किया जाता है, जड़ों द्वारा पोषक तत्व को सींच लिया जाता है और पौधों तक पहुंचा दिया जाता ह।   इस प्रकार के तकनीक का प्रयोग अधिकतर पॉली फार्मिंग (Poly Farming ) के माध्यम से किया जाता है जिसमें तापमान को फसल के अनुसार नियंत्रित किया जाता है।

Vertical Farming कैसे शुरू करें?

Next Gen Farming Without Soil and 90% Less Water: Vertical Farming शुरू करने के लिए आपको एक जगह का चयन करना है जहां आप इसको शुरू कर  सकें। इसके बाद आप PVC पाइप का प्रयोग करके एक लंबा पैनल बना सकते हैं।  इस पैनल के अंदर बीच-बीच में आप पौधों के अनुसार एक छेद करें, यानी छेद के अंदर पौधे की जड़ रहेगी और पीवीसी पाइप के बाहर पौधे की पत्तियां या फसल रहेगी। पीवीसी पाइप के अंदर विभिन्न पौष्टिक तत्वों से भरपूर पानी के संचालन की व्यवस्था करें

 इसके साथ ही आप पानी को समय-समय पर बदल भी लें ताकि पानी खराब ना हो क्योंकि पानी खराब होने से आप की फसल में भी खराबी आ सकती है। आप अपनी आवश्यकता के अनुसार PVC पाइप का चयन कर सकते हैं। यदि आपको अधिक घने और पत्तेदार सब्जियों खानी है तो मोटे PVC पाइप का प्रयोग करें। इस प्रकार आप वर्टिकल फार्मिंग के माध्यम से ना केवल अपने पैसे बचा सकते हैं बल्कि पैदा होने वाली फसल को बेचकर लाभ भी कमा सकते हैं। इस तकनीक के माध्यम से पैदा की गई फसल देखने में अच्छी और खाने में स्वादिष्ट होती है जिस की मार्केट में कीमत बहुत ज्यादा होती है।

Leave a comment