Uttarakhand Chardham Yatra Registration : आवश्यक निर्देश, स्थानीय लोगों के लिए अनिवार्य पंजीकरण खत्म

चारधाम यात्रा (Chardham Yatra) को लेकर राज्य सरकार की ओर से पुख्ता तैयारी की जा रही है. इसी क्रम में आज मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने बैठक कर अधिकारियों को आवश्यक दिशा-निर्देश जारी किए. मुख्यमंत्री ने कहा कि आगामी Chardham Yatra के लिए स्थानीय लोगों के पंजीकरण की अनिवार्यता को दूर किया जाए.

उत्तराखंड की चारधाम यात्रा के दौरान देवभूमि उत्तराखंड आने वाले सभी श्रद्धालुओं को दर्शन के लिए ले जाया जाएगा. चारधाम यात्रा के लिए होटल और होमस्टे में बुकिंग करा चुके श्रद्धालुओं के दर्शन की व्यवस्था भी की जाए। मुख्यमंत्री श्री पुष्कर सिंह धामी ने सचिवालय में आगामी चारधाम यात्रा की तैयारियों की समीक्षा के दौरान अधिकारियों को यह निर्देश दिए .

Uttarakhand Chardham Yatra Registration

Badrinath Dham के कपाट 27 अप्रैल को खुलेंगे

धामों के तीर्थयात्री लंबे समय से चार धाम यात्रा में श्रद्धालुओं विशेषकर स्थानीय तीर्थयात्रियों का पंजीकरण खत्म करने की मांग कर रहे हैं. इस वर्ष की Char Dham Yatra की शुरुआत 22 अप्रैल को अक्षय तृतीया (Akshaya Tritiya) के अवसर पर गंगोत्री (Gangotri) और यमुनोत्री (Yamunotri ) धाम के कपाट खुलने के साथ होगी। इसके बाद केदारनाथ (Kedarnath) धाम के कपाट 25 अप्रैल और बद्रीनाथ (Badrinath) धाम के कपाट 27 अप्रैल को खुलेंगे।

7th Pay Commission : सरकार का बड़ा फैसला- 8 क‍िस्‍तों में म‍िलेगा 18 महीने का DA Arrear

Chardham Yatra 2023: IRCTC के माध्यम से करें हेलिकॉप्टर बुक

विभिन्न माध्यमों से जागरुकता अभियान चलाया जाएगा

मुख्यमंत्री श्री पुष्कर सिंह धामी (Chief Minister Shri Pushkar Singh Dhami ) ने कहा कि चारधाम यात्रा को व्यवस्थित, सुचारू और सुरक्षित बनाने के लिए सभी तैयारियां समय से पूरी कर ली जाएं। देवभूमि उत्तराखण्ड (Devbhoomi Uttarakhand) आने वाले श्रद्धालुओं को चारधाम यात्रा के साथ-साथ राज्य के अन्य प्रमुख धार्मिक एवं पर्यटन स्थलों का भी भ्रमण करना चाहिए, इसके लिए प्रदेश के प्रमुख धार्मिक एवं पर्यटन स्थलों का व्यापक प्रचार-प्रसार किया जाए। इसके लिए विभिन्न माध्यमों से पर्यटन, पुलिस व परिवहन विभाग द्वारा जागरूकता अभियान चलाया जाए।

मुख्यमंत्री ने कहा कि आगामी Chardham Yatra के लिए पुलिस द्वारा भीड़ प्रबंधन की समुचित व्यवस्था की जाए. श्रद्धालुओं से जो भी आवश्यक जानकारी लेनी हो, राज्य के प्रवेश द्वार पर एक बार ही ली जाए। देवभूमि उत्तराखंड आने वाले श्रद्धालुओं को किसी प्रकार की परेशानी हो, यह सुनिश्चित किया जाए। चारधाम यात्रा के लिए जिन विभागों के कर्मियों की ड्यूटी लगी है, उन विभागों के कर्मियों को जो स्वेच्छा से चारधाम यात्रा पर जाना चाहते हैं, उन्हें प्राथमिकता दी जाए.

Mahangai Bhatta 2023: आ गई दिल लूटने वाली खबर! जनवरी इंडेक्स में 0.5 प्वाइंट की तेजी

Fasal ka Muavja: फसल हो गयी ख़राब, घबराएं नहीं – सरकार देगी 32000 रुपये, ऐसे उठायें लाभ

मुख्य चेकिंग सीमा पर प्रवेश के दौरान ही की जाएगी

मुख्यमंत्री धामी ने कहा कि Chardham Yatra के लिए भीड़ प्रबंधन की समुचित व्यवस्था पुलिस द्वारा की जाए। राज्य की सीमा पर प्रवेश के दौरान श्रद्धालुओं से जो भी आवश्यक जानकारी लेनी हो, एक बार ही ली जाए। यह सुनिश्चित किया जाए कि देवभूमि आने वाले श्रद्धालुओं को कोई परेशानी न हो। चारधाम यात्रा के लिए जिन विभागों के कर्मियों की ड्यूटी लगी है, उन विभागों के कर्मियों को जो स्वेच्छा से चारधाम यात्रा पर जाना चाहते हैं, उन्हें प्राथमिकता दी जाए.

चारधाम यात्रा पर जो भी स्वास्थ्य शिविर लगाए जा रहे हैं, उन्हें व्यवस्थित तरीके से आयोजित किया जाए। कुछ स्थानीय लोगों को चारधाम यात्रा के लिए यात्रा मित्र के रूप में रखा जाए। यात्रा मार्गों पर वाहन चालकों के ठहरने एवं सोने की व्यवस्था पार्किंग स्थलों में की जाये। चारधाम यात्रा पर आने वाले वाहनों की फिटनेस का विशेष ध्यान रखा जाए, इसके लिए अन्य राज्यों से भी समन्वय किया जाए .

NIT Meghalaya

Leave a comment