Re-KYC Rules: RBI का बड़ा फैसला-बदल गए हैं KYC के नियम, घर बैठे करें Re-KYC

जिन नागरिकों का किसी भी बैंक में खाता है उनके लिए यह खबर बहुत काम की है। रिजर्व बैंक की मौद्रिक नीति समिति की बैठक के बाद मीडिया से बात करते हुए RBI Governor Shaktikanta Das ने Re-KYC से जुड़े कुछ नियमों पर बात की। गवर्नर ने कहा कि अगर Digital Banking में सब कुछ ऑनलाइन हो गया है तो खाता खुलवाने के लिए बैंक शाखा जाने की जरूरत नहीं है। KYC के नियमों को लेकर RBI के गवर्नर ने जानकारी देते हुए कहा कि अगर आपने एक बार KYC करा लिया है तो दूसरी बार KYC कराने के लिए आपको बैंक शाखा जाने की जरूरत नहीं पड़ेगी।

इसके साथ ही RBI Governor शक्तिकांत दास ने कहा कि अगर आप अपना Address बदलना चाहते हैं तो आपको ईमेल या अपने रजिस्टर्ड मोबाइल नंबर के माध्यम से अपना नया एड्रेस सम्बंधित जानकारी बैंक को भेजनी होगी। RBI की तरफ से साफ तौर पर कहा गया है कि अगर आपके पास एक बैंक में KYC है तो दोबारा KYC करने की आवश्यकता नहीं है, आपको केवल अपना CKYCR identifier number बैंक के साथ शेयर करना होगा। अगर आपका बैंक आपसे ऐसा करने के लिए कहता है तो आप अपने बैंक से इसकी शिकायत कर सकते हैं।

Re-KYC Rules
Re-KYC Rules

बदल गए KYC के Rules, आइए जानते हैं RBI ने क्या कहा?

रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया के गवर्नर शक्तिकांत दास ने जानकारी देते हुए कहा कि अब ग्राहकों को Re-KYC कराने के लिए बैंक शाखा जाने की कोई जरूरत नहीं है। ग्राहक अपने घर बैठे ही आसानी से ऑनलाइन माध्यम से Re-KYC कर सकते हैं। यदि आपको केवाईसी विवरण में कोई बदलाव नहीं करना है, तो आप अपने बैंक खाते में पंजीकृत मोबाइल से बैंक को एक मैसेज भेजकर ReKYC करवा सकते हैं। गवर्नर ने मौद्रिक नीति की घोषणा करने के बाद जानकारी देते हुए कहा कि एड्रेस में परिवर्तन के अलावा KYC प्रक्रिया ऑनलाइन माध्यम से की जा सकती है।

जानें Address Change होने पर KYC करने की प्रक्रिया

  • इसके लिए आप घर बैठे बैंक में Registered Mobile Number से Email या Message भेज सकते हैं।
  • बैंक सिर्फ 60 दिनों के अंदर पत्र भेजकर इसे वेरिफाई करेगा।
  • CKYCR के तहत ग्राहक को एक CKYCR आइडेंटिफायर संख्या दी जाती है, जिसे ग्राहक बैंक के साथ शेयर करते हैं तो दूसरे बैंक को KYC करने की जरूरत नहीं पड़ती है।
  • यदि आपका बैंक आपको केवाईसी करने के लिए बैंक आने के लिए कहता है तो आप इसकी शिकायत बैंकिंग लोकपाल और गैर-कानूनी तेजी से समाधान के तहत कर सकता है।

BOB Bank Account Open: बैंक ऑफ बड़ौदा इंस्टेंट जीरो बैलेंस खाता ऑनलाइन खोलें

Bank News: नए साल से पहले इन बैंक ग्राहकों के खाते में जमा होंगे 5-5 लाख़ रूपये, क्या आपका खाता भी है यहाँ?

How To Link Aadhaar To Bank Account NPCI : अगर अभी तक नहीं आए खाते में 2000 रुपए, करें ये उपाय

Check Bank Balance on Paytm: पेटीएम पर बैलेंस चेक करने का आसान तरीका

अलग-अलग Re-KYC की नहीं है आवश्यकता

RBI गवर्नर ने कहा कि ग्राहकों को समय -समय पर KYC करवाने बैंक के चक्कर काटने पड़ते हैं और इस तरह से कई दिक्कतों का सामना करना पड़ता है। कई बार ग्राहकों को Re-KYC कराने के लिए किसी खास ब्रांच में जाना पड़ता है और हो सकता है कि इस बारे में बैंक के उन अधिकारियों को सही और उचित जानकारी ना हो, क्योंकि Re-KYC की प्रक्रिया घर बैठे ऑनलाइन भी पूरी की जा सकती है। Reserve Bank समय-समय पर इस संबंध में जागरूकता कार्यक्रम चलाता है। अगर किसी ग्राहक को Re-KYC को लेकर ज्यादा दिक्कत होती है तो वह इसकी शिकायत बैंकिंग लोकपाल से कर सकता है।

Leave a comment