Kisan Mitra Urja Yojana: किसानों का बिजली बिल शून्य, ऐसे उठायें लाभ

बिजली महंगी होने के कारण किसान अपने खेतों में ठीक से सिंचाई नहीं कर पा रहे हैं. ऐसे में किसान मित्र ऊर्जा योजना (Kisan Mitra Urja Yojana) की शुरुआत राजस्थान सरकार ने कृषि की लागत को कम करने और किसानों को आर्थिक सहायता प्रदान करने के लिए की थी. इस योजना के तहत किसानों को बिजली बिल पर 1000 रुपए प्रति माह की सब्सिडी दी जा रही है।

सरकार द्वारा किसानों की आय बढ़ाने और खेती में लागत कम करने के लिए लगातार प्रयास किए जा रहे हैं। इसी कड़ी में राजस्थान के किसानों को बिजली के बिल पर 1000 रुपये की सब्सिडी दी जा रही है. आपको बता दें कि यह सब्सिडी सिर्फ उन्हीं किसानों को दी जाती है, जिनका बिजली का कोई बिल बकाया नहीं है. बिजली का इस्तेमाल कृषि से जुड़े कई कामों में होता है। ऐसी कई तकनीकें और आधुनिक कृषि मशीनें हैं, जो बिजली से चलती हैं और बड़े पैमाने पर खेती करने वाले किसान इसका इस्तेमाल करते हैं। इससे बिजली का बिल भी बढ़ जाता है और खेती की लागत भी बढ़ जाती है। इस खर्च के बोझ को कम करने के लिए केंद्र और राज्य सरकारें कई तरह की योजनाएं चला रही हैं. बिजली की जगह सौर ऊर्जा के इस्तेमाल को महत्व दिया जा रहा है। किसानों को सोलर पैनल लगाने पर सब्सिडी भी मिल रही है।

Kisan Mitra Urja Yojana

इसी कड़ी में राजस्थान सरकार का फोकस दोनों चीजों पर है. एक तरफ राज्य में कृषि के सौरकरण पर जोर दिया जा रहा है। वहीं, राज्य के किसानों को हर साल बिजली बिल (Bijli Bill) पर अधिकतम 12,000 रुपये (बिजली बिल का 60%) सब्सिडी मिलती है। इस योजना का लाभ राजस्थान के सभी किसानों को मिल रहा है, जिससे बिजली बिल भी लगभग शून्य (Zero Electricity Bill) हो गया है। अगर आप भी राजस्थान में खेती करते हैं तो आप इस योजना के लिए आवेदन कर लाभ उठा सकते हैं

कृषि लागत को कम करने के लिए शुरू की गई योजना

बिजली महंगी होने के कारण किसान अपने खेतों में ठीक से सिंचाई नहीं कर पा रहे हैं. इससे खेती की लागत बढ़ने के साथ ही उनकी फसलों की उपज भी प्रभावित हो रही थी. ऐसे में राजस्थान सरकार ने कृषि की लागत कम करने और किसानों को आर्थिक सहायता देने के लिए Kisan Mitra Urja Yojana की शुरुआत की थी.

सिचाई की समस्या दूर

Kisan Mitra Urja Scheme के शुरू होने से किसानों की सिंचाई की समस्या काफी हद तक कम हो गई है। सही समय पर बिजली मिलने से उनकी फसलों की सिंचाई की जरूरत पूरी हो रही है. इसके साथ ही बिजली पर सब्सिडी मिलने से उनकी जेब पर कोई बोझ नहीं पड़ा है। राजस्थान सरकार के मुताबिक करीब 7 लाख 85 हजार किसानों के बिजली बिल भी जीरो (Bijli Bill Zero)कर दिए गए हैं.

खुशी से झूमेंगे केंद्रीय कर्मचारी ! 8th Pay Commission में सैलरी हाइक [44%]

बिजली, बैंक खाते और आधार को लिंक करें

Rajasthan Kisan Mitra Urja Yojana के तहत यदि किसी किसान का बिजली बिल 1000 रुपये से कम आता है तो उसके वास्तविक बिल और अनुदान राशि के अंतर को उसके बैंक खाते में जमा कराया जायेगा. इससे किसान बिजली बचाने के लिए प्रेरित होंगे। इस अनुदान को प्राप्त करने के लिए किसान को अपना बिजली खाता संख्या एवं बैंक खाता संख्या आधार से लिंक कराना होगा।

योजना की पात्रता

  • सब्सिडी केवल सामान्य श्रेणी के ग्रामीण मीटर और फ्लैट रेट श्रेणी के कृषि मीटर पर दी जाएगी
  • किसान को राजस्थान का मूल निवासी होना चाहिए।
  • किसान का आधार नंबर और बैंक नंबर जुड़ा होना चाहिए।
  • इस योजना में सिर्फ आयकर न भरने वाले किसानों को शामिल किया गया है, जो खेती करते हैं, लेकिन केंद्र या राज्य के तहत सरकारी नौकरी भी करते हैं, उन्हें इस योजना का लाभ नहीं दिया जाएगा।
  • किसान मित्र ऊर्जा योजना में शामिल होने के लिए किसानों को अपना पंजीकरण कराना होगा। इसके लिए बैंक और आधार का लिंक होना चाहिए।

शिक्षकों के लिए अच्छी खबर – 62 से 65 वर्ष हो सकती है Retirement की उम्र!

7th Pay Commission : सरकार का बड़ा फैसला- 8 क‍िस्‍तों में म‍िलेगा 18 महीने का DA Arrear

यहां जरूर अप्लाई करें

Mukhyamantri Kisan Mitra Urja Yojana Registration करने के लिए आवेदक को सबसे पहले नजदीकी बिजली विभाग में जाना होगा। आवेदन के साथ उन्हें अपना नाम, पता, मोबाइल नंबर, बैंक अकाउंट, फोटो जैसी जानकारी भरनी होगी और बिजली बिल की रसीद, आधार फोटो कॉपी अटैच करनी होगी।

NIT MEGHALAYA HOMEPAGECLICK HERE

Leave a comment