ज़्यादा धूप कहीं बन ना जाए “खतरा”! जानें सर्दियों में कितनी देर धुप में रहना सही

Jyada Dhup Lene Ke Nuksan: सर्दियों में धूप लेना सभी को पसंद है. धूप में Vitamin D होता है. विटामिन डी लेने से हड्डियां मजबूत होती हैं. इसलिए काफी लोग अक्सर धूप में काफी देर तक बैठे रहते हैं. इससे उन्हें विटामिन डी प्राकृतिक रूप से प्राप्त हो जाता है. लेकिन क्या आप जानते हैं कि ज्यादा विटामिन डी लेने से भी आपको नुकसान पहुंच सकता है.

जी हां, विटामिन डी का अत्यधिक सेवन करने से भी आप को नुकसान पहुंच सकता है. शरीर में इस्तेमाल किए जाने वाले और विटामिन की ही तरह विटामिन डी भी एक बहुत महत्वपूर्ण विटामिन है. इसकी पूर्ति हम अक्सर विटामिन की गोलियों के रूप में करते हैं या धूप में जाकर भी कर लेते हैं. लेकिन यहां हम आपको बता रहे हैं कि हद से ज्यादा विटामिन डी का सेवन करना किस तरह आपके लिए हानिकारक हो सकता है.

Jyada Dhup Lene Ke Nuksan

Jyada Dhup Lene Ke Nuksan 

हमारे शरीर में विभिन्न प्रकार के विटामिन और प्रोटीन पाए जाते हैं जो हमारे शरीर के हिस्सों को काम करने में मदद करते हैं. हम सभी को मालूम है कि Vitamin D का प्राकृतिक स्रोत धूप है. सर्दियों के मौसम में अधिकतर लोग काफी देर तक धूप सेकते हैं. इससे गर्मी और विटामिन दोनों ही प्राप्त हो जाते हैं. इसके अतिरिक्त कई लोग इसकी पूर्ति करने के लिए मेडिकल स्टोर से दवाई भी ले लेते हैं. लेकिन आपको बता दें कि इसकी पूर्ति जरूरत से ज्यादा करने पर यह जहर भी बन जाता है. और इससे आपको साइड इफेक्ट भी पहुंच सकते हैं. इसलिए आप अपनी आवश्यकता से ज्यादा इसका इस्तेमाल ना करें.

Top Highest Paying Jobs In India: भारत में सबसे ज्यादा सैलरी वाली जॉब, जहां है लाखों का पैकेज

Apply for Instant Personal Loan Online : चुटकियों में लोन पास

Vitamin D की कमी किस किसको होती है

आपको बता दें कि विटामिन D शरीर के लिए बहुत महत्वपूर्ण तत्व है. इसकी जरूरत हर एक इंसान को होती है. लेकिन आयु और क्षमता के अनुसार इसकी मात्रा में कमियां बलवती होती रहती है. विटामिन को IU के अंदर मापा जाता है. इसका मतलब होता है इंटरनेशनल यूनिट. 12 साल से कम आयु तक के बच्चों को 1 दिन में 400 IU विटामिन D की आवश्यकता होती है. इसके साथ ही 12 वर्ष की आयु से अधिक के सभी लोग जिनकी आयु 70 वर्ष से कम है एक दिन में 600 IU तक विटामिन प्राप्त कर सकते हैं. इससे अधिक विटामिन के लिए घातक हो सकता है. जबकि 70 वर्ष से अधिक आयु के लोगों को 1 दिन में 800 IU तक विटामिन लेना चाहिए. इससे उनकी हड्डियां ज्यादा मजबूत होती है. 

जरूरत से ज्यादा विटामिन लेना

चिकित्सकों ने जरूरत से ज्यादा विटामिन लेने के कारण होने वाली बीमारी को हाइपर विटामिन कहा है. यानी अगर आप अपनी आयु के अनुसार विटामिन प्राप्त नहीं कर रहे हैं और उससे ज्यादा प्राप्त कर रहे हैं तो आपको ऐसे में हाइपर विटामिन होता है. यह विटामिनों की जरूरत से ज्यादा खुराक लेने के कारण होने वाला रोग है. हालांकि धूप के कारण हायपर विटामिन की संभावनाएं कम होती हैं. लेकिन यदि आप डॉक्टर की सलाह के बिना मेडिकल स्टोर से विटामिन डी की गोलियां ले रहे हैं तो ऐसी स्थिति में आपको हाइपर विटामिन हो सकता है. यह एक तरह का जहर बन जाता है जो बहुत सारी बीमारियों का कारण बनता है.

जरूरत से ज्यादा विटामिन लेने के कारण आपको सिर दर्द, दिल में दर्द, किडनी में दर्द, पेट में दर्द इत्यादि जैसी समस्याएं देखने को मिल सकती है. इसके अलावा कई बार किडनी फेल हो जाने का कारण भी हायपर विटामिन बन जाता है. इसलिए आपको डॉक्टर की सलाह के बिना जरूरत से ज्यादा विटामिन नहीं लेना चाहिए. 

Mobile Se Loan Kaise Le | मोबाइल से लोन कैसे ले सकते है?

Vitamin D: अधिक धूप लेना

अक्सर लोग सर्दियों में छत पर धूप लेते हुए नजर आते हैं. लेकिन कई बार हम पूरे दिन छत पर ही धूप लेते रहते हैं जिससे हमें हाइपर विटामिन के समस्या आ सकती है. आपको बता दें कि धूप लेने का अच्छा समय सुबह 11:00 बजे से दोपहर 3:00 बजे तक का होता है. आप इस समय के बीच में कभी भी धूप ले सकते हैं. इसके साथ ही आपको लगातार धूप नहीं लेनी चाहिए.

छोटे बच्चों को आप लगभग 30 मिनट तक धूप की रोशनी में रख सकते हैं जिससे उन्हें विटामिन डी की पूर्ति हो जाएगी. 12 साल की आयु तक के बच्चों को आप 45 मिनट तक धूप में रख सकते हैं इससे उनके अंदर विटामिन डी की भरपूर पूर्ति हो जाती है. इस प्रकार अधिक आयु के लोग भी प्रतिदिन धूप ना लेकर 1 सप्ताह में 5 या 6 दिन ही धूप है. इससे उनके अंदर विटामिन का संतुलन बरकरार रहता है. 

NIT Meghalaya HomepageClick Here

Leave a comment