ITR File 2023 Update: ITR File करने में आता है कितना खर्चा, यह सबसे बेहतर ऑप्शन

ITR File 2023 Update: 31 जुलाई 2023 , ITR File करने की अंतिम तारीख है, इस बार पहले ही सरकार ने साफ कर दिया है कि इनकम टैक्स रिटर्न दाखिल करने की डेडलाइन को आगे नहीं बढ़ाया जाएगा। कुल मिलाकर हम यह कह सकते हैं कि 31 जुलाई 2023 ही इस बार ITR File करने की अंतिम तारीख मानी जाएगी। इसके बाद में फाइल करने वालों को पेनल्टी शुल्क भरना पड़ेगा।

आज के इस लेख में हम जानेंगे कि File Income Tax Return करने में खर्चा कितना आता है. आपकी जानकारी के लिए बता दें कि income tax file करने का खर्चा टैक्स पेयर के द्वारा चुने हुए तरीके और एसेसमेंट लेवल पर निर्भर करता है । आमतौर पर देखा गया है कि टैक्सपेयर के लिए सबसे बेहतर तरीका है आधिकारिक Sarkari Portal क्योंकि यहां से टैक्स दाखिल करने पर इनकम टैक्स पेयर को एकदम नॉमिनल चार्जेस लगते हैं या टैक्स पेयर मुफ्त में भी अपना रिटर्न दाखिल कर सकते हैं ।


जो लोग निजी टैक्स फाइलिंग पोर्टल पसंद करते हैं उन्हें आमतौर पर 200 से ₹250 तक शुल्क देना पड़ जाता है। हालांकि कई व्यक्ति मैक्सिमम डिडक्शन के लिए स्पेशल सर्विस का ऑप्शन चुनते हैं जिसमें उन्हें अधिक शुल्क देना पड़ता है। एक खबर के मुताबिक टेक्स्ट पर यदि स्पेशल टैक्स सर्विसेज सुनते हैं और ITR Portal के जरिए फाइल करते हैं तो उन्हें ITR दाखिल करने पर ₹750 से ₹1000 तक का खर्च आता है। वही अगर किसी टैक्सपेयर को फाइनेंस रिलेटेड सोर्स से कैपिटल गेन होता है तो उन्हें फाइलिंग का शुल्क ₹2000 से ₹3000 तक का भरना पड़ सकता है। कुल मिलाकर हम यह कह सकते हैं कि व्यक्ति अपनी व्यक्तिगत जरूरत के आधार पर टैक्स भरने का उचित विकल्प चुन सकते हैं ।

देर से भुगतान के नुक्सान

एक रिपोर्ट के मुताबिक टैक्सपेयर को हमेशा यह ध्यान रखना चाहिए कि वह आईटीआर को सही तरीके से फाइल करें अन्यथा टैक्सपेयर को इसके भारी नुकसान भरने पड़ सकते हैं। इसीलिए हमेशा टैक्स रिटर्न दाखिल करने से पहले आप यह तय कर लें की किसी एक्सपर्ट से रिटर्न फाइल करवाएं और कोशिश करें कि 31 जुलाई की तारीख से पहले ही रिटर्न दाखिल कर दिया जाए अन्यथा आपको इसके लिए पेनेल्टी चार्जेस देने पड़ सकते हैं।

अगर कोई टैक्स पेयर डेडलाइन तक इनकम टैक्स रिटर्न दाखिल नहीं करता तो प्रॉपर्टी लॉस को छोड़कर अगले साल के लिए किसी भी प्रकार के लॉस में कैरी फॉरवर्ड नहीं किया जाता । जैसा कि हम सब जानते हैं किसी भी बिजनेसमैन के द्वारा यदि किसी प्रकार का लॉस का वहन किया जा रहा है और वह समय से पहले टैक्स रिटर्न दाखिल करता है तो उस लॉस को इनकम टैक्स विभाग द्वारा अगले साल के लिए कैरी फॉरवर्ड किया जाता है ,परंतु लेट टैक्स रिटर्न दाखिल करने पर फॉरवर्ड की सुविधा इनकम टैक्स डिपार्टमेंट नहीं देता है।

ITR Filing Alert 2023: Income Tax बचाने के चक्कर में मत करना ये भूल, होगी जुर्माना और जेल?

Online Digital Loan without CIBIL Score: 5 मिनट में 500000 का डिजिटल लोन, यहां से करें अप्लाई

वही ₹500000 से अधिक आय वाले व्यक्ति यदि आईटीआर लेट दायर करते हैं तो उन्हें ₹5000 तक का जुर्माना भी देना पड़ता है । यह एक नॉमिनल लेट फाइन है इसके अलावा यदि कोई व्यक्ति और देर से ITR दाखिल करता है तो उसे पेनल्टी शुल्क के साथ ब्याज भी देना पड़ता है।

गलत जानकारी पर जुर्माना

वहीं आईटीआर रिटर्न दाखिल करते समय यदि आपने गलत जानकारी भर दी तो इसके लिए आपको 200 फ़ीसदी का जुर्माना भी देना पड़ सकता है । आपकी कुल टैक्सेबल राशि पर यह जुर्माना लगाया जाता है । इस प्रकार टैक्स रिटर्न दाखिल ना करने पर भी आपको भारी जुर्माना भरना पड़ सकता है तथा 3 महीने से लेकर 7 साल की कैद भी हो सकती है।

इसीलिए इनकम टैक्स भरने वाले टैक्सपेयर से निवेदन है कि वे 31 जुलाई से पहले अपना टैक्स रिटर्न फाइल कर दे । कोशिश करें कि यह रिटर्न जल्द से जल्द तथा त्रुटिरहित फाइल किया जाए। इसके अलावा टैक्स पेयर गलत जानकारी देने से भी बचें जिससे कि उन पर किसी प्रकार की कोई सजा का विधान ना लगाया जाए।

nit meghalaya

Leave a comment