G Pay Ban: आप भी यूज करते है G Pay, तो हो जाए सावधान, नहीं तो फस जाएगा सारा पैसा

G Pay Ban: Gpay के माध्यम से ग्राहक ट्रांजैक्शन करते हैं. इंटरनेट पर यह खबर बहुत तेजी से वायरल हो रही है कि gpay ban हो गया है. इस खबर में कितनी सच्चाई है इसकी जांच आज हम लेख में करेंगे. इंटरनेट पर काफी दिनों से Gpay ban ट्रेंड हो रहा है. इंटरनेट का प्रयोग करने वाले और सोशल मीडिया का इस्तेमाल करने वाले लोग इस खबर से परिचित हैं. टि्वटर जैसे प्लेटफार्म पर यह खबर बहुत आम है कि गूगल पर बैन हो रहा है. हालांकि ट्विटर पर कई सारी ट्रेंडिंग न्यूज़ रोज आती हैं. और उनके पीछे की सच्चाई जाने बिना लोग trend का प्रयोग करने लगते हैं. इंटरनेट पर गूगल pay के संबंध में यह सूचना आम हो रही है कि google pay रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया से अधिकृत नहीं है. यानी gpay के माध्यम से लेनदेन करना सुरक्षित नहीं है. हालांकि अपने इस लेख में हम इस बात की पूरी तरह से पड़ताल कर रहे हैं. आपको यह भी बताएंगे कि इस खबर में कितनी सच्चाई है. इसलिए आप इसलिए को अंत तक जरूर पढ़ें।

GPay Ban हो गया है?

इंटरनेट पर मौजूद खबर के माध्यम से यह बताया जा रहा है कि G pay एक सुरक्षित पेमेंट करने का तरीका नहीं है. Gpay  रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया द्वारा मान्यता प्राप्त नहीं है. इसके साथ ही यह भी बताया जा रहा है कि Gpay नेशनल पेमेंट कॉरपोरेशन ऑफ इंडिया NPCI द्वारा वेरीफाई नहीं किया गया है. इसलिए इसका प्रयोग करने से ग्राहकों का डाटा लीक हो सकता है और उनका बैंक भी है हो सकता है. इस प्रकार की खबर के मार्केट में आ जाने के बाद से गूगल PAY का इस्तेमाल करने वाले ग्राहक परेशान हैं. इसलिए हम इस खबर की जांच करने के लिए इस आर्टिकल को लिख रहे हैं.

UIDAI New Guideline: आधार में e-Mail ID ऐसे करें अपडेट | Aadhaar Email ID Update

जल्दी से करवा लें PNB KYC Update, वरना नहीं कर पाएंगे कोई ट्रांजेक्शन – बंद हो जाएगा अकाउंट

क्या GPay बैन हो गया है ?

अगर आप भी इस प्रश्न का उत्तर जानना चाहते हैं कि क्या gpay बैन हो गया है. तो आपको यह बता दूं कि नहीं . Gpay बैन नहीं हुआ है. और यह खबर पूरी तरह से झूठ है. इसका इस्तेमाल करने वाली ग्राहक बिना किसी समस्या के इसका प्रयोग कर सकते हैं. रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया द्वारा यह साफ किया  गया है कि Gpay द्वारा भारतीय रिजर्व बैंक की सभी गाइडलाइंस को माना जाता है. इसलिए यह किसी भी सीमा का उल्लंघन नहीं करता. यानी  इंटरनेट पर तेजी से वायरल हो रही gpay के संबंध में यह खबर पूरी तरह झूठी है. 

क्या कहा रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया ने Gpay के लिए 

PIB द्वारा जारी की गई सरकार की सफाई के अनुसार यह खबर झूठी है. pib द्वारा सरकार अपना पक्ष इंटरनेट पर रखती है. इसमें बताया गया है कि वायरल खबर जो कि यह दावा करती है की gpay RIB से अधिकृत नहीं है, पूरी तरह झूठ है. वायरल खबर में यह भी बताया जा रहा है कि GPay की शिकायत RBI द्वारा High court मैं करी गई है. हालांकि pib द्वारा दी गई सफाई के अनुसार ऐसी किसी भी तरह की शिकायत भारतीय रिजर्व बैंक ने नहीं करी है.  क्योंकि कंपनी द्वारा भारतीय रिजर्व बैंक की सभी गाइडलाइंस को पूरी तरह से माना जाता है और इसका उल्लंघन नहीं किया जाता. 

Google Pay से कमाएं हर घंटे ₹500 से ₹1000 | Free Me Paisa Kaise Kamaye?

NPCI थर्ड पार्टी ऐप पर नजर रखता है 

GPay  के संबंध में फैलाई जा रही है झूठी खबर में यह दावा किया जा रहा है कि GPay NPCI द्वारा जारी की गई नियम और शर्तों को नहीं मानता.  लेकिन यह झूठी खबर है. नेशनल पेमेंट कॉरपोरेशन ऑफ इंडिया द्वारा समय-समय पर विभिन्न थर्ड पार्टी एप्लीकेशन के लिए नई दिशा निर्देश जारी की जाती है. इनका पालन इन थर्ड पार्टी ऐप को करना होता है. GPay द्वारा इन सभी दिशा निर्देशों का पालन किया जा रहा है. हालांकि UPI के माध्यम से पेमेंट करने वाले सभी थर्ड पार्टी ऐप को NPCI के अंतर्गत अपना रजिस्ट्रेशन कराना होता है और दिशानिर्देशों को मानना होता है. इसके बाद ही वह मोबाइल एप्लीकेशन सरकार द्वारा मान्यता प्राप्त कहलाता  है.

Google Certificate Course 2022-23: फ्री ऑनलाइन कोर्स के साथ सर्टिफिकेट

Open G PAY (Google Pay) Account | जानें GPAY App को कैसे इस्तेमाल करें

क्या GPay Safe है ?

अन्य दूसरे पेमेंट करने के थर्ड पार्टी ऐप की तरह Gpay भी एक सुरक्षित और मान्यता प्राप्त मोबाइल एप्लीकेशन है. इसके माध्यम से ग्राहक UPI के द्वारा पैसे ट्रांसफर कर सकते हैं. इंटरनेट बैंकिंग की इस विधि के द्वारा ग्राहक को अपने बैंक खाते का UPI बनाना होता है. इसके बाद दूसरे व्यक्ति के बैंक खाते के UPI का प्रयोग करके उसके बैंक में पैसे भेजे जाते हैं. इस प्रक्रिया को आसान बनाने के लिए UPI सुविधा प्रदान करने वाले थर्ड पार्टी ऐप जैसे Gpay, Phone Pay, Bharat Pay, Paytm इत्यादि ग्राहकों को सेवाएं प्रदान करते हैं.  इस प्रकार आप किसी भी ऑथराइज्ड थर्ड पार्टी ऐप का इस्तेमाल करके यूपीआई ट्रांजैक्शन कर सकते हैं. यह एक सेफ विधि है. हालांकि आपको अपने बैंक से संबंधित जानकारियां किसी दूसरे के साथ साझा नहीं करनी चाहिए. ऐसे में आपका बैंक असुरक्षित भी हो जाता है 

Leave a comment