Bisleri Story: क्यों बेचनी पड़ रही है Bisleri? मालिक ने बताई असली वजह

Bisleri Story: आपने Bisleri का पानी जरूर दिया होगा. अब यह कंपनी बिक रही है. Bisleri Company के बिकने की पीछे की पूरी कहानी हम इस लेख में आपके साथ साझा करेंगे. 82 साल के रमेश चौहान के द्वारा खड़ी की गई बिसलेरी कंपनी की कमान इनकी बेटी जयंती चौहान संभाल रही थी. हाल ही में रमेश चौहान द्वारा की गए कॉन्फ्रेंस के बाद से मीडिया में बिसलेरी कंपनी के बिकने की चर्चा हो रही है. क्या आप भी जानना चाहते हैं कि Bisleri Water Bottle Company क्यों बिक रही है? और इसमें जयंती चौहान का क्या रोल है. Jayanti Chauhan kon hai? इस प्रकार के आपके प्रश्नों के उत्तर हम आपको इस लेख में देंगे.

Bisleri Company बिक रही है

देशभर में बोतलबंद पानी बेचने की परंपरा Bisleri Water Bottle कंपनी द्वारा प्रसारित करी गई है. आज हम किसी भी रेलवे प्लेटफार्म पर, खाने के ढाबे पर, ऑफिस की मीटिंग में, गली की दुकान में हर जगह बिसलेरी का पानी देख सकते हैं. हालांकि बहुत सारी कंपनियां पैकेज्ड वॉटर बेच रही हैं. लेकिन भारतीयों का भरोसा जितना Bisleri company पर है उतना किसी दूसरे कंपनी में नहीं है. Bisleri company इतनी ज्यादा लोकप्रिय है कि इसके नाम से मिलते जुलते दूसरी पानी बेचने company मार्केट में देखने को मिल जाती हैं. आपको बता दें कि भारत में बिसलेरी आने के बाद रमेश चौहान द्वारा इसे खरीदा गया और इसकी क्वालिटी को निरंतर बढ़ाया गया. 

4 लाख में खरीदी गई थी Bislery Company

Tata-Bisleri Deal: जिस वक्त चौहान घराने द्वारा यह कंपनी खरीदी गई थी उस वक्त इसकी कीमत ₹400000 थी. चौहान घराने ₹400000 में बिसलेरी कंपनी खरीद कर इसको निरंतर आगे बढ़ाया. रमेश चौहान ने अपने नेतृत्व में इस कंपनी को बहुत आगे पहुंचाया और आज 2022 में इसकी नेट वैल्यू लगभग 5000 करोड रुपए से अधिक है. हालांकि यह कंपनी 6000 से 7000 करोड़ रुपए के बीच में टाटा को बेची जा सकती है. इसकी चर्चा में आप के साथ आगे के भाग में करेंगे. कंपनी द्वारा भारतीयों का पैकेज वाटर पर भरोसा बढ़ाने के लिए रमेश चौहान ने बहुत ज्यादा मेहनत करी. आज हम सभी यदि पैकेज वाटर खरीदते हैं तो बिसलेरी का पानी खरीदना पसंद करते हैं.

टाटा कंपनी खरीद सकती है बिसलेरी

Tata Consumer-Bisleri Deal: रमेश चौहान द्वारा जारी किए गए प्रेस कॉन्फ्रेंस के माध्यम से यह बताया गया है कि उनकी टाटा कंपनी से निरंतर बिसलेरी को बेचने के संबंध में बातचीत चल रही है. हालांकि उन्होंने इसके लिए अभी कोई अंतिम result नहीं दिए हैं. लेकिन अनुमान के मुताबिक 6000 से 7000 करोड़ के बीच यह कंपनी टाटा खरीद सकती है. टाटा इंडस्ट्रीज द्वारा भारत में कई सारे उद्योग स्थापित किए गए हैं और बहुत सारे लोगों को रोजगार भी दिए गए हैं. रमेश चौहान भी मेहनत से तैयार करी गई इस कंपनी को अच्छे हाथ में सोचना चाहते हैं. ऐसे में टाटा से अच्छा कोई दूसरी कंपनी नहीं हो सकती. हालांकि अभी कंपनी से रमेश चौहान की बात चल रही है.

बिसलेरी कंपनी क्यों बिक रही है

 रमेश चौहान ने Bisleri International company को 5000 करोड़ का बनाया. लेकिन 82 वर्ष की आयु, अब उनकी उम्र और सेहत सही ना होने के कारण उन्हें यह कंपनी बेचनी पड़ रही है. इसके अलावा कंपनी बिल्कुल भी घाटे में नहीं चल रही लेकिन रमेश चौहान के पास उत्तराधिकारी ना होने की वजह से भी बिसलेरी कंपनी बेची जा रही है. हालांकि रमेश चौहान की एक इकलौती बेटी जयंती चौहान भी हैं जिन्होंने बिसलेरी कंपनी में काफी लंबे समय तक काम किया और इसको संभाला. लेकिन फिर भी रमेश चौहान सही वारिस और कंपनी को संभालने के लिए उपयुक्त लोग ना होने की वजह से इसे बेचा जा रहा है.

Whatsapp Loan: वाट्सऐप करें ‘Hi’, तुरंत पाएं 10 लाख का Instant Loan

Spice Money Registration: फ्री रजिस्ट्रेशन करें, 50,000 हर महीने कमाएं, जानें पूरा तरीका

NVS Admission 2023- JNVST Notification @ navodaya.gov.in: लास्ट डेट से पहले भरें नवोदय का फॉर्म

Jayanti Chauhan कौन है? 

Why doesn’t Jayanti want to take such a big company: हाल ही में बिसलेरी की कंपनी बिकने की खबर के साथ ही जयंती चौहान के बारे में भी चर्चाएं हो रही हैं. बता दें कि जयंती चौहान बिसलेरी कंपनी के मालिक रमेश चौहान की इकलौती बेटी है. इन्होंने बिसलेरी कंपनी में काफी लंबे समय तक काम किया. इंटरनेट पर फैल रही खबरों के अनुसार बिसलेरी कंपनी को बेचने की एक वजह जयंती चौहान को भी बताया जा रहा है. जयंती चौहान ने फैशन डिजाइनिंग (Jayanthi is a fashion designer) के क्षेत्र में काफी अच्छा कार्य किया है. वह क्षेत्र में आगे कार्य करना चाहती हैं. इसी कारण बिसलेरी कंपनी में लंबे समय तक सहयोग नहीं कर पाएंगे. हालांकि इंटरनेट पर रमेश चौहान द्वारा अपनी बेटी के बारे में इस तरह की कोई बात नहीं करी गई है. लेकिन न्यूज़ में उनको टारगेट बनाने की वजह से उनके बारे में हेट स्पीच बहुत फैल रही है. इस पर सफाई ना देते हुए इशारों में जयंती चौहान ने Linkedin पोस्ट पर “ हर खबर के दो पहलू होते हैं” लिखकर अपना पक्ष जाहिर किया है. 

NIT Meghalaya

Leave a comment