Bank Privatisation: हो गया कन्फर्म! ये सरकारी बैंक बेचे जाएंगे – वित्त मंत्री ने दी जानकारी

FM Nirmal Sitharaman on Bank Privatisation: बैंकों के निजीकरण (Bank Privatisation) को लेकर एक बड़ी खबर सामने आ रही है। जानकारी के अनुसार, बैंकों के निजीकरण को लेकर सरकार की तरफ से एक बड़ी योजना बनाई जा रही है। नीति आयोग की तरफ से सूची (NITI Ayog bank privatisation list ) जारी की गयी है जिसमें साफ तौर पर बताया गया है कि सरकार द्वारा किन-किन बैंकों का निजीकरण किया जायेगा और इसके अलावा किन बैंकों को बैंक निजीकरण (Bank privatisation) की सूची से बाहर रखा गया है।

फिलहाल सरकार दो बैंक और एक जनरल बीमा कंपनी के निजीकरण पर जल्द ही निर्णय लेने वाली है। जानकारी के अनुसार जो सरकारी बैंक कंसोलिडेशन का हिस्सा थे, उन सभी को निजीकरण के दायरे से बाहर रखा गया है।

Bank Privatisation News

bank privatisation news: इस बैंक को बेचा जायेगा

बैंक के निजीकरण को लेकर एक और बड़ी खबर सामने आ रही है. Finance Minister Nirmala Sitharaman ने पिछले साल अपने बजट में ऐलान किया था कि वह IDBI Bank में अपनी हिस्सेदारी बेचेगी. फिलहाल इस बार budget 2023 से पहले बैंकों के निजीकरण की सूची ( bank privatization list) की प्रक्रिया पूरी हो जाएगी। बता दें कि इस बैंक के लिए कई कंपनियों ने बोली लगाई है.

वर्तमान में, अरबपति प्रेम वत्स के नेतृत्व में एक मध्य पूर्व बैंकिंग कंपनी Emirates NBD और कनाडा का Fairfax Group, दोनों IDBI Bank में सरकार की हिस्सेदारी खरीदने में बड़ी रुचि दिखा रहे हैं। सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक इस Bank में हिस्सेदारी खरीदने के लिए Emirates NBD और Fairfax Group इसी हफ्ते Expression of Interest (EOI) जमा कर सकते हैं.

सूत्रों ने बताया है कि Luxembourg’s private equity company CVC Capital Partners भी इस सौदे में हिस्सेदारी खरीदने के लिए आगे आ सकती है. फिलहाल इस बारे में कोई आधिकारिक पुष्टि नहीं हुई है. इसकी EOI जमा करने के संबंध में कोई जानकारी प्राप्त नहीं हुई है।

जानें कितने बैंकों का हुआ है मर्जर

जानकारी के लिए बता दें कि केंद्र सरकार की ओर से अगस्त 2019 में 10 में से 4 बैंकों को मर्ज किया गया था और उस समय देश में सरकारी बैंकों की कुल संख्या 27 थी जो घटकर केवल 12 रह गई है। जानकारी के अनुसार, फिलहाल इन बैंकों के निजीकरण (Privatisation of banks) के बारे में अभी कोई योजना नहीं है। वित्त मंत्रालय ने राय देते हुए साफ तौर पर कहा है कि इन सभी बैंकों को निजीकरण के तहत शामिल नहीं किया जायेगा।

Bank Privatisation: बड़ी खबर! सभी बैंक का होगा निजीकरण – What is Reality?

YES Bank Personal Loan 2023: 40 लाख तक का Fastest Personal Loan – ब्याज दर सबसे कम

Bandhan Bank Personal Loan: 25 लाख़ तुरंत खाते में, जानें पात्रता और दस्तावेज

जानें किन 6 बैंकों का नहीं होगा निजीकरण

नीति आयोग द्वारा जारी की गई सूची ( Bank Privatisation List of Niti Ayog) के अनुसार, पंजाब नेशनल बैंक, यूनियन बैंक, केनरा बैंक, एसबीआई, बैंक ऑफ बड़ौदा और इंडियन बैंक शामिल हैं। केंद्र सरकार ने जानकारी दी है कि इन 6 बैंकों का निजीकरण (Privatization) नहीं किया जाएगा। सरकारी अधिकारी की ओर से मिली जानकारी के अनुसार, जो भी सरकारी बैंक कंसोलिडेशन का हिस्सा था उन सभी को Privatisation के दायरे बाहर रखा गया है।

Budget 2023 में की गयी थी घोषणा

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने अपने बजट भाषण के दौरान जानकारी दी थी कि 2 सरकारी बैंकों और एक जनरल इंश्योरेंस कंपनी के निजीकरण करने की योजना बनाई जा रही है। फिलहाल सरकार द्वारा वित्तीय वर्ष 2022 के लिए तकरीबन 1.75 लाख करोड़ रुपये के विनिवेश का लक्ष्य रखा गया था।

अभी तक एकीकरण की प्रक्रिया नहीं हुई पूरी

साल 2019 में बनाई गई कंसॉलिडेशन योजना से प्राप्त जानकारी के अनुसार, केंद्र सरकार द्वारा कई बैंकों का एक साथ विलयन (Bank Merger) तो कर दिया गया है, लेकिन अभी इनका एकीकरण नहीं किया गया है। जानकारी के अनुसार अभी इनके एकीकरण की प्रक्रिया पूरी नहीं हुई है, जिसे जल्द ही पूरा किया जायेगा।

NIT Meghalaya

Leave a comment